राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. मसूद अहमद ने कहा कि  उत्तर प्रदेश की विगत साढ़े 4 साल में देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जिस प्रकार अवहेलना की है उसकी निंदा करने के लिए शब्दकोष में शब्द कम पड़ जाएंगे। जिस नरेन्द्र मोदी ने बनारस में चुनाव लड़ते समय यह कहा हो कि गंगा मैया ने बुलाया है उस बेटे ने गंगा मैया का ही ध्यान नहीं रखा और आज भी गंगा मैया की सफाई नहीं हो सकी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के चुनाव क्षेत्र बनारस स्वच्छता अभियान में भी बहुत पीछे है।

डॉ. अहमद ने कहा कि देश में 2 करोड़ नौकरियां प्रतिवर्ष देने का वादा करने वाले प्रधानमंत्री अब तक यह वायदा भी पूरा नहीं कर सके। ठीक इसके विपरीत उनकी नोटबंदी की घोषणा ने हजारों कारखाने बंद करा दिए जिससे बेरोजगारों की संख्या और अधिक बढ़ गई। विश्वस्त सूत्रों से पता चला है कि अब चुनावी वर्ष में उनके द्वारा उप्र के लिए चुनावी सौगातों का पिटारा खुलने वाला है।

शायद नरेन्द्र मोदी उप्र की जनता को इतना भोला समझते हैं कि उनकी चालाकी और झूठ बोलने की आदत तथा जुमलेबाजी पहचानी न जा सके। अपने सम्पूर्ण कार्यकाल में प्रधानमंत्री के द्वारा उप्र के किसानों की अनदेखी एवं मजदूर वर्ग की अवहेलना के साथ-साथ बेरोजगार युवाओं के साथ धोखा किया गया है। जिसको उप्र के लोग आगामी कई वर्षों तक भुला नहीं पाएंगे।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में गरीबों, किसानों, मजदूरों और युवाओं की लड़ाई सड़क से संसद तक लगातार लड़ने का संकल्प राष्ट्रीय लोकदल कर चुका है और जब तक इन सभी वर्गों की खुशहाली नहीं आएगी तब तक राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौ. अजित सिंह और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चैधरी चैन से नहीं बैठेंगे।

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े