बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती पर तंज कसते हुए केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने रविवार को आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रहते बी आर आंबेडकर समेत विभिन्न दलित नेताओं की मूर्तियां स्थापित करने के पीछे मायावती का असल मकसद खुद की प्रतिमाएं लगवाना था।लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) अध्यक्ष पासवान का बयान उच्चतम न्यायालय की टिप्पणी की पृष्ठभूमि में आया है। शीर्ष अदालत में नेताओं द्वारा अपनी तथा पार्टी के चुनाव चिन्ह की मूर्तियां स्थापित करने में जनता का पैसा खर्च करने के खिलाफ एक याचिका दायर की गई थी। पासवान ने कहा, ‘‘ उनका (मायावती) मुख्य उद्देश्य अपनी मूर्तियां लगवाना था। बाबा साहब जैसे नेताओं की मूर्तियां स्थापित करना तो एक बहाना है।’’ 

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े