जानकीपुरम विस्तार में ट्रामा सेन्टर के लिये निःशुल्क जमीन उपलब्ध कराये जाने पर लखनऊ जनविकास महासभा ने जनप्रतिनिधियों सहित लखनऊ विकास प्राधिकरण एवं अन्य विभागों के अधिकारियों के प्रयासों की सराहना की है। महासभा के संस्थापक संयोजक पंकज तिवारी ने इस सफलता के लिये संघर्ष करने वाले महासभा के अध्यक्ष एस0के0 बाजेपेयी, उपाध्यक्ष संतोष तिवारी, महामंत्री श्रीराम तिवारी, मंत्री अजय यादव एवं कोषाध्यक्ष राजीव कुमार गुप्ता व क्षेत्रीय समाजसेविका दिव्या शुक्ला सहित जुड़े सभी लोगों को बधायी देते हुये कहा है कि लखनऊ जनविकास महासभा का यह संघर्ष महासभा के सभी साथियों की एकजुटता का परिणाम है। श्री तिवारी ने बताया कि ट्रामा सेन्टर की सफलता में उपाध्यक्ष  संतोष तिवारी के नेतृत्व में कड़ा  संघर्ष किया गया और संतोष तिवारी द्वारा रात दिन तन मन धन से लगे रहने के परिणाम स्वरूप ही यह भूमि ट्रामा सेन्टरके लिये उपलब्ध हो पायी है, जिसके लिये क्षेत्रीय जनता ने बधायी दी है। श्री तिवारी बताया  कि यह संघर्ष सिर्फ ट्रामा सेन्टर की सफलता तक नहीं रहेगा, बल्कि यहां लड़कियों के लिये राजकीय महाविद्यालय भी बनाये जाने का संघर्ष जारी रहेगा। उल्लेखनीय है कि स्वास्थ्य विभाग की उदासीनता के चलते लखनऊ विकास प्राधिकरण ट्रामा के लिये आवंटित भूमि को रद करने का मन बना रहा था, जिसको देखते हुये लखनऊ जनविकास महासभा ने इस मामले में आगे आया और इस मामले को लेकर महासभा के अध्यक्ष एस0के0 बाजपेई के नेतृत्व में इस साल के फरवरी और सितम्बर में दो बार राज्यपाल श्रीराम नाईक से मिलकर जानकीपुरम विस्तार ट्रामा सेन्टर का मामला सामने रखा इसके अलावा जनप्रतिनिधियों से भी इस मामले में दबाव बनवाया गया। जिसका परिणाम आज सामने है कि ट्रामा सेन्टर के लिये रास्ता लगभग साफ हो गया है, अब सरकार की हरी झण्डी की जरूरत है। उम्मीद है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जल्द ही हरी झण्डी दिखा देंगे। श्री तिवारी ने बताया कि यहां जानकीपुरम विस्तार में ट्रामा सेन्टर के बनने से जानकीपुरम और जानकीपुरम विस्तार सहित आसपास के क्षेत्र को मिलाकर लगभग पांच लाख की आबादी को स्वास्थ्य सेवा का लाभ पहुंचेगा इसके अलावा सीतापुर रोड जैसे अति व्यस्त नेशनल हाईवे पर आए दिन अनेकों दुर्घटनाएं होती हैं और साथ ही साथ सीतापुर सिधौली लखीमपुर जैसे जनपदों से आने वाले गंभीर मरीजों को ट्रामा सेंटर की सुविधा मिलेगी।

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े