लखनऊ, 10 फरवरी। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर ऑडिटोरियम में आयोजित विश्व एकता सत्संग में बोलते हुए बहाई धर्मानुयायी, प्रख्यात शिक्षाविद् व सी.एम.एस. संस्थापिका-निदेशिका डा. (श्रीमती) भारती गाँधी ने कहा कि पारिवारिक एकता से ही विश्व एकता की राहें खुलेंगी, इसलिए बच्चों को प्रारम्भ से ही शान्ति, एकता, प्रेम व सदाचारों की शिक्षा देना आवश्यक है। सी.एम.एस. के छात्रों को जय जगत तथा वसुधैव कुटम्बकम के माध्यम से विसश् नागरिक बनने की शिक्षा दी जाती है। परिवार में माता-पिता, भाई-बहन इत्यादि में एकता व अपने का भाव होना आवश्यक है। डा. गाँधी ने आगे कहा कि आज विश्व का सर्वाधिक धन लड़ाइयों पर खर्च हो रहा है। ऐसे में यदि विश्व में एकता व शान्ति का वातावरण बनेगा तो लड़ाइयों पर खर्च होने वाला धन रोटी, कपड़ा, मकान, शिक्षा व चिकित्सा पर खर्च होगा, जिससे दुनिया में खुशहाली आयेगी। शिक्षा का उद्देश्य ही देश-दुनिया में लड़ाइयों का अन्त कर सुख, शान्ति, एकता तथा प्रेम का वातावरण तैयार करना है। इस अवसर पर डा. भारती गांधी ने सभी को ‘बसन्त पंचमी’ की हार्दिक शुभकामनाएं व बधाई दी। इससे पहले,  सी.एम.एस. के संगीत शिक्षकों ने सुमधुर भजनों की श्रृंखला प्रस्तुत कर सम्पूर्ण आडिटोरियम को आध्यात्मिक आलोक से प्रकाशित कर दिया तथापि उपस्थित सत्संग प्रेमियों को सुखद अनुभूति करायी।

            ‘विश्व एकता सत्संग’ में आज सी.एम.एस. राजेन्द्र नगर (तृतीय कैम्पस) के छात्रों ने साँस्कृतिक-आध्यात्मिक प्रस्तुतियों से सबका मन मोह लिया। स्कूल प्रार्थना, वंदना गीत ‘हे शारदे माँ’, लघु नाटिका ‘यूनिटी इन डायवर्सिटी’ एवं ‘स्वच्छ भारत’, गीत ‘ये तो सच है कि भगवान है’ एवं ‘चलना है स्कूल सभी को’, टॉक शो ‘बिलीव इन योरसेल्फ’ एवं ‘फैमिली यूनिटी डे’ को सभी ने खूब सराहा। इसके अलावा, नुक्कड़ नाटक ‘एन्टी पल्यूशन ड्राइव’ भी सभी के आकर्षण का केन्द्र रही। इस अवसर पर कई विद्वजनों ने सारगर्भित विचार व्यक्त किये। सत्संग का समापन संयोजिका श्रीमती वंदना गौड़ द्वारा धन्यवाद ज्ञापन से हुआ।

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े