रविवार को संगम पर जन ज्वार उमड़ पड़ा। रविवार को अब तक के सामान्य दिनों में सबसे ज्यादा भीड़ रही। कुंभ मेला प्रशासन ने 55 लाख श्रद्धालुओं के संगम में डुबकी लगाने का दावा किया है।

दिल्ली एनसीआर समेत लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, झांसी तथा आसपास के शहरों व पड़ोसी प्रदेशों के श्रद्धालु शनिवार दोपहर बाद ही यहां पहुंचने लगे थे, जिन्होंने रात में विश्राम कर रविवार को संगम में डुबकी लगाई।

मंगलवार को माघी पूर्णिमा है। इसमें भी रिकॉर्ड श्रद्धालुओं के पवित्र स्नान करने की संभावना है। मेले के इंट्री प्वाइंटों पर दिनभर भीषण जाम लगा रहा। हजारों वाहन कई घंटे फंसे रहे।

दरअसल, शहर के तथा मेला के पास वाले वाहनों को अंदर आने के लिए छूट दी गई थी। इंट्री प्वाइंटों पर पुलिस के साथ पैरामिलिट्री को मुस्तैद किया गया।

यही नहीं संगम नोज पर भी बड़ी संख्या में अर्द्धसैनिक बलों के साथ पीएसी और पुलिस तैनात थी। फोर्स ने जल्द स्नान घाट को खाली करने का दबाव बनाया तब स्थिति नियंत्रण में आ सकी।

शाम को कुंभ मेला प्रशासन ने बताया कि 3.5 लाख वाहन तो पार्किंंग में खड़े कराए गए थे। इसके अलावा सरकारी बसों और ट्रेनों से भी यात्री आए।

कुंभ मेलाधिकारी विजय किरन आनंद ने बताया कि शनिवार और रविवार को कुंभ में भारी भीड़ उमड़ी।लगभग 55 लाख श्रद्धालुओं ने रविवार को और 15 लाख के करीब शनिवार को स्नान किया। संभावना है कि माघी पूर्णिंमा पर लगभग एक करोड़ श्रद्धालु स्नान करेंगे। 

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े