प्रयागराज में शुरू हो रहे कुंभ मेले के लिए विभिन्न अखाड़े मेला स्थल पर पहुँच चुके हैं और इन अखाड़ों का स्वागत खूब धूमधाम से किया जा रहा है। कुंभ मेले में इन अखाड़ों द्वारा निकाले जाने वाली भव्य झाकियां आकर्षण का बड़ा केंद्र होती हैं। हर अखाड़े का प्रयास रहता है कि कैसे वह दूसरे से ज्यादा भव्य दिखे। प्रत्येक अखाड़े में शामिल साधु-संत अपनी अलग-अलग छटाएं बिखेरते हुए चलते हैं। जब यह अखाड़े चलते हैं तो अपनी परम्पराओं का पालन करते हुए चलते हैं। मसलन कोई अखाड़ा हाथी पर तो कोई अखाड़ा घोड़े पर सवार होकर या फिर राजसी पालकी में सवार होकर बैंड बाजे के साथ मेला स्थल पर पहुँचता है। इस दौरान अखाड़ों पर पुष्प-वर्षा होती रहती है।अखाड़ों की ओर से निकाली जाने वाली झाकियों के दौरान नागा बाबाओं की फौज आगे आगे चल रही होती है जबकि उनके पीछे महंत, मंडलेश्वर और फिर महा मंडलेश्वर तथा आचार्य महामंडलेश्वर शामिल होते हैं। इस बार जो कुंभ मेला लग रहा है उसमें स्नान तिथियों की बात करें तो पहला स्नान 15 जनवरी को मकर संक्रांति के दिन पड़ रहा है जबकि अंतिम स्नान 4 मार्च 2019 को महाशिवरात्रि के दिन पड़ रहा है।कुंभ मेले में एक खास बात यह होती है कि साधुओं के स्नान के बाद ही आम लोग गंगा में डुबकी लगाते हैं। देखा जाये तो हिन्दू धर्म में अखाड़ों के शाही स्नान के बाद संगम में डुबकी लगाने का बड़ा धार्मिक महत्व माना गया है। कुंभ के दौरान आम श्रद्धालु एक से पांच बार डुबकी लगाता है जबकि अखाड़ों के नागा तो 1008 बार तक नदी में डुबकी लगा जाते हैं। आइए जानते हैं इस बार के कुंभ में स्नान पर्व की तिथियां क्या हैं-

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े