बच्चों की छुट्टियों को इंट्रेस्टिंग बनाने के लिए पेरेंट्स उन्हें हिल स्टेशन या किसी हिस्ट्रोरिक्ल प्लेस पर लेकर जाते हैं। मगर हिलस्‍टेशन के अलावा आप उन्हें जंगल सफारी के लिए भी लेकर जा सकते हैं। आज हम आपको जंगल सफारी के लिए कुछ ऐसी जगहों के बारे में बताएंगे, जहां जाकर आपके ट्रिप का मजा दोगुणा हो जाएगा। तो चलिए जानते हैं किन-किन जंगलों में जंगल सफारी कर आप बच्‍चों की छुट्टियों को एडवेंचर्स बना सकते हैं।
 

1. कॉर्बेट नेशनल पार्क
नैनीताल के पास में स्थित इस पार्क में आप हाथी, चीता, बाघ, हिरण जैसे जंगली वन्‍य प्राणीयों को देख सकते हैं। इसके अलावा आपको यहां 580 तरह के पक्षी भी देखने को मिलेंगे। साथ ही इं जंगल के बीचो-बीच पहने वाली राम गंगा नदी में राफ्टिंग आपके ट्रिप को एडवेंचर्स बना देगी।

PunjabKesari

2. हेमिस नेशनल पार्क
बर्फ से ढके इस शहर में आप वाइल्ड लाइफ का मजा भी ले सकते हैं। भारत का सबसे ऊंचाई पर बने इस पार्क में आप कई जंगली जानवर, पक्षी और कीड़े-मकौड़े देख सकते हैं। इसके अलावा सिंधु नदी के किनारे बने इस पार्क में आपको प्रचीन बोद्ध मठ भी देखने को मिलेगा।

PunjabKesari

3. काबिनी फॉरेस्‍ट रिजर्व
बच्चों के साथ एडवेंचर्स ट्रिप का मजा लेने के लिए कर्नाटक का काबिनी फॉरेस्‍ट रिर्जव सबसे बेस्ट ऑप्शन है। 55 एकड़ जमीन पर फैले इस जंगल में आप हरी भरी पहाडि़यां और झीलों के साथ कई जीव-जन्तु भी देख सकते हैं।

PunjabKesari

4. रणथंबौर नेशनल पार्क
वाइल्ड लाइफ लवर्स के लिए राजस्‍थान का रणथंबौर नेशनल पार्क सबसे बेस्ट ऑप्शन है। इस जंगल में आपको चीतें, बाघ और हिरणों के साथ-साथ कई तरह के खूबसूरत पक्षी भी देखने को मिलेंगे। इसके साथ ही आप यहां कई हिस्‍टॉरिकल प्‍वॉइंट्स को भी देख सकते हैं।

PunjabKesari

5. बांदीपुर नेशनल पार्क
बच्चों के साथ जंगल सफारी करने के लिए आप बांदीपुर नेशनल पार्क में भी जा सकते हैं। यहां आपको प्राकृतिक खूबसूरती के साथ-साथ कई जंगली जानवर और खूबसूरत पक्षी देखने को मिलेंगे। यह पार्क नागुर, कबिनी और मोयर तीन नदियों से घिरा हुआ है।

PunjabKesari

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े