दक्षिण कोरिया का कहना है कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस साल मई तक उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन से मिलने पर हामी भर दी है, वहीं व्हाइट हाऊस का कहना है कि दोनों नेताओं की मुलाकात होनी है लेकिन‘‘ वक्त और जगह तय होना बाकी है।’’ दक्षिण कोरिया के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार चुंग इउई- योंग ने ट्रंप और उनकी राष्ट्रीय सुरक्षा टीम के साथ संक्षिप्त भेंट के कुछ घंटे बाद उक्त घोषणा की। चुंग उत्तर कोरिया के साथ हुई बातचीत से अमेरिका को अवगत कराने आये शिष्टमंडल का नेतृत्व कर रहे हैं। बयान पढ़ते हुए चुंग ने कहा कि उत्तर कोरियाई नेता ने‘‘ जितनी जल्दी संभव हो सके, राष्ट्रपंति ट्रंप से मिलने की इच्छा जतायी है।’’ चुंग ने उत्तर कोरिया के नरम पड़ते रूख का श्रेय ट्रंप के नेतृत्व और अंतरराष्ट्रीय एकजुटता की मदद से अपनायी गयी अधिकतम दबाव की नीति को दिया।

उत्तर कोरियाई नेता के साथ अपनी बैठक में चुंग ने कहा कि ट्रंप कोरियाई प्रायद्वीप के परमाणु नि: शस्त्रीकरण को लेकर प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ किम ने कहा है कि उत्तर कोरिया भविष में किसी परमाणु या मिसाइल परीक्षण से परहेज करेगा। वह समझते हैं कि दक्षिण कोरिया और अमेरिका के बीच होने वाले संयुक्त सैन्याभ्यास जारी रहने चाहिए। उन्होंने जितनी जल्दी संभव हो, राष्ट्रपति ट्रंप से मिलने की इच्छा जतायी।’’ चुंग ने कहा, ‘‘राष्ट्रपति ट्रंप ने बातचीत की प्रशंसा की है और कहा कि वह मई तक किम जोंग- उन से मिलकर स्थाई परमाणु नि: शस्त्रीकरण हासिल करेंगे। अमेरिका, जापान और दुनिया के अन्य साझेदारों सहित कोरिया गणराज्य( दक्षिण कोरिया) कोरियाई प्रायद्वीप के पूर्ण नि: शस्त्रीकरण को लेकर पूर्णतया प्रतिबद्ध है।’’ उन्होंने कहा कि ट्रंप के साथ- साथ हम भी शांतिपूर्ण समाधान के लिए कूटनीतिक प्रक्रिया जारी रखने को लेकर आशावान हैं।

उक्त घोषणा पर प्रतिक्रिया देते हुए व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने कहा, ‘‘ राष्ट्रपति ट्रंप दक्षिण कोरियाई शिष्टमंडल और राष्ट्रपति मून( जे- इन) के प्रयासों की सराहना करते हैं। वह किम जोंग- उन से मिलने का न्योता स्वीकार करेंगे, जिसके लिए समय और स्थान अभी तय होना है।’’ सारा ने कहा, ‘‘हम उत्तर कोरिया के परमाणु नि: शस्त्रीकरण को लेकर उत्साहित हैं। इसबीच, सभी प्रतिबंध और अधिकतम दबाव जारी रहने चाहिए।’’ प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, राष्ट्रपति ट्रंप और कोरियाई नेता किम की अगले कुछ महीनों में मुलाकात हो सकती है।

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े