भारतीय सेना द्वारा किए गए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से दावा किया जा रहा था कि इससे पहले भी ऐसे कई सर्जिकल स्ट्राइक किए जा चुके हैं। वहीं इस मामले में अब सरकार की तरफ से एक संसदीय पैनल को बताया गया कि भारतीय सेना ने पहले नियंत्रण रेखा के पार तो आतंकवादी विरोधी अभियान चलाए थे, वो एक खास टारगेट वाले सीमित क्षमता के अभियान थे लेकिन यह पहला मौका है, जब सरकार ने इसे सार्वजनिक कर दिया। विदेश सचिव एस.जयशंकर ने विदेश मामलों से संबंधित संसदीय समिति को यह जानकारी मंगलवार को दी। सांसदों ने जयशंकर से सवाल पूछा था कि क्या पहले भी सर्जिकल स्ट्राइक की गई थी?बैठक में मौजूद सूत्रों के मुताबिक, 'पहले एलओसी के पार विशिष्ट लक्ष्य वाले सीमित क्षमता के आतंकवाद विरोधी अभियान चलाए गए थे लेकिन यह पहला मौका है जब सरकार ने इसे सार्वजनिक किया है। एस.जयशंकर ये की टिप्पणी काफी अहम है क्योंकि रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने पिछले हफ्ते कांग्रेस के दावों को खारिज कर दिया था कि यूपीए सरकार के कार्यकाल में भी सर्जिकल स्ट्राइक की गई थीं।

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े