नोटबंदी के बाद अकाऊंट्स में हो रहे लेन-देन पर इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट की नजर है। ऐसे में जिसके भी अकाऊंट में ज्यादा लेन-देन हो रहा है, उसे आईटी डिपार्टमेंट की ओर से टैक्‍स नोटिस मिल सकता है। हालांकि यदि आपको नोटिस मिले तो घबराए नहीं, बल्कि उसका सही तरीके से जवाब दें। यह जरूर याद रखें कि आपके पास हाई वैल्‍यू ट्रांजैक्‍शन के संबंधित डॉक्‍यूमेंट होने चाहिए, जिससे आप यह साबित कर सकें कि आपने अपना उचित टैक्‍स सरकार के खाते में जमा कराया है।   

पीएम मोदी ने नोटबंदी के बाद कहा था कि कोई बी अपने खाते में 2.50 लाख रुपए तक जमा करवा सकता है। इस पर उससे कोई पूछताछ नहीं होगी। वहीं, वित्त मंत्रालय के अनुसार, जनधन अकाऊंट्स के लिए कैश डिपॉजिट की लिमिट 50,000 रुपए रखी गई है। अकाऊंट्स में हो रहे लेन-देन की जानकारी इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट को बैंकों की सलाना सूचना रिटर्न के जरिए मिलेगी। अभी इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की नजर ज्यादा लेन-देन पर है। अगर आपकी अकाऊंट बुक में सभी लेन-देन सही तरीके से दर्ज हैं और आपने टैक्स भरा है तो आपको कोई परेशानी नहीं होगी। 

नोटिस मिलने पर क्या किया जाए
1. तय समय में दें जवाब
अगर आपको इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट की ओर से नोटिस मिले, तो हमेशा इसका जवाब तय समय में देना चाहिए। नोटिस का जवाब देने में देरी नहीं करनी चाहिए। आमतौर पर नोटिस का जवाब देने के लिए 7 से 15 दिन का समय मिलता है।

2. इनकम सोर्स का प्रूफ रखें  
इनकम टैक्‍स के नोटिस के जवाब में आप इनकम से सोर्स से जुड़े सभी प्रूफ जरूर उपलब्‍ध कराएं। इसलिए जरूरी है कि जब भी आपके अकाऊंट में हाई वैल्‍यू ट्रांजैक्‍शन हो, तो उसका प्रूफ अवश्‍य रखें। इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट को फाइनैंशियल ईयर के फाइल किए गए इनकम टैक्‍स रिटर्न की कॉपी देनी पड़ सकती है। अपनी पर्सनल और कंपनी बुक हमेशा अपटूडेट रखनी चाहिए। यदि आपकी अकाऊंट बुक सही है तो आपको कोई परेशानी नहीं होगी।

3. गलत जानकारी न दें  
नोटिस मिलने पर कभी गलत जानकारी नहीं देनी चाहिए क्‍योंकि, यदि आपके द्वारा दी गई कोई मिस-इन्‍फॉर्मेसन स्‍क्रूटनी में पकड़ी जाती है, तो आपकी मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

4. प्रोफेशनल की मदद लें  
हाई वैल्‍यू ट्रांजैक्‍शन से संबंधित यदि नोटिस आपको मिले, तो जल्‍दबाजी में अपनी तरफ से कोई कदम न उठाएं। नोटिस को समझने और उसका सही-सही जवाब देने के लिए आपको अपने चार्टर्ड अकाऊंटेंट या टैक्‍स प्रोफेशनल की मदद लेनी चाहिए। प्रोफेशनल से आपको नोटिस का सही-सही जवाब देने में मदद मिलेगी। 

5. नोटिस मिले तो घबराएं नहीं  
आमतौर पर इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट की ओर से नोटिस आने पर लोग परेशान हो जाते हैं। इसमें यह सलाह है कि नोटिस मिलने पर आप कभी भी घबराए नहीं, क्‍योंकि इससे गलती होने की संभावना अधिक हो जाएगी। इसलिए नोटिस मिलने पर ठंडे दिमाग से काम लें। जहां तक आपको समझ में आए समझें, नहीं तो प्रोफेशनल की मदद लें

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े