लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण से पहले उत्तर प्रदेश की सियासत में बड़ी हलचल मच गई है. भारतीय जनता पार्टी की सहयोगी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (SBSP) ने बगावत के सुर और मुखर कर दिए हैं. बताया जा रहा है कि टिकट वितरण को लेकर सुहेलदेव पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर की नाराजगी फिर बढ़ गई है और उन्होंने बीजेपी का ऑफर ठुकरा दिया है.

ओमप्रकाश राजभर की नाराजगी दूर करने के लिए शनिवार को लखनऊ में लंबी बातचीत चली. खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ओमप्रकाश राजभर से मुलाकात की. बताया जा रहा है कि बीजेपी ने ओमप्रकाश राजभर को मंत्रीपद छोड़कर चुनाव लड़ने का ऑफर दिया है, लेकिन वो इस पर राजी नहीं हुए. सूत्रों के मुताबिक राजभर अपने बेटे को पार्टी सिम्बल पर ही चुनाव लड़ाना चाहते हैं.

बीजेपी और राजभर के बीच घमासान इस स्तर तक पहुंच गया है कि वो अपनी पार्टी के बीस से ज्यादा प्रत्याशी घोषित करने पर विचार कर रहे हैं. बताया जा रहा है कि सोमवार बलिया में होने वाली सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी की सभी में इन प्रत्याशियों के नाम घोषित किए जा सकते हैं. इतना ही नहीं योगी सरकार में मंत्रीपद का कार्यभार संभाल रहे ओमप्रकाश राजभर इस्तीफा भी दे सकते हैं. इससे पहले भी वो कई बार अलग-अलग मसलों पर सरकार के प्रति नाराजगी जाहिर करते हुए इस्तीफे की पेशकश कर चुके हैं.

ओमप्रकाश राजभर दलित समाज से आते हैं और उनकी पार्टी पूर्वांचल में अपना दखल रखती है. 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में राजभर की पार्टी ने 4 सीटों पर जीत दर्ज की थी, जिसके एवज में ओमप्रकाश राजभर को योगी कैबिनेट में मंत्री बनने का अवसर दिया गया. राजभर की पार्टी का जनाधार पूर्वांचल के बलिया, गाजीपुर, मऊ और वाराणसी क्षेत्र में है. कांग्रेस ने भी पूर्वी यूपी पर विशेष तौर पर फोकस किया है और प्रियंका गांधी को पूर्वी यूपी का प्रभारी बनाना भी इसी कड़ी का हिस्सा माना जाता है. ऐसे में बीजेपी नहीं चाहेगी कि पूर्वांचल में राजभर की नाराजगी उनके लिए परेशानी का सबब बने.

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े