समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कांग्रेस को ‘मुसलमानों की पार्टी कहे जाने सम्बन्धी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बयान पर कांग्रेस का बचाव करते हुए आज कहा कि कोई भी पार्टी किसी मजहब की नहीं बल्कि जनता की होती है। अखिलेश ने यहां पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि प्रधानमंत्री कांग्रेस को मुसलमानों की पार्टी बता रहे हैं। मैं कहना चाहता हूं कि कोई भी पार्टी किसी धर्म की नहीं बल्कि लोगों की होती है। भाजपा नेता झूठ बोलने में माहिर हैं। प्रधानमंत्री ने 14 जुलाई को आजमगढ़ में एक जनसभा में तीन तलाक को लेकर कांग्रेस के रुख की आलोचना करते हुए कहा था कि खुद को मुस्लिमों की पार्टी बताने वाली कांग्रेस यह भी बताये कि वह सिर्फ पुरुष मुसलमानों की ही पार्टी है या उसमें मुस्लिम महिलाओं के लिये भी कोई जगह है।अखिलेश ने प्रधानमंत्री द्वारा पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की आधारशिला रखे जाने और उसे विकास के अपने ‘विजन’ का हिस्सा बताये जाने पर एतराज जताते हुए कहा कि यह एक्सप्रेव-वे परियोजना भाजपा की नहीं बल्कि खुद उनकी सरकार की देन है। सपा कार्यकर्ता साइकिल यात्रा निकालेंगे और पूर्ववर्ती राज्य सरकार की योजनाओं को अपना बता रही भाजपा के झूठ का पर्दाफाश करेंगे। उन्होंने कहा ‘‘मैं भी लोकसभा चुनाव की घोषणा हो जाने के बाद साइकिल यात्रा निकालूंगा। भाजपा ने चुनाव प्रचार शुरू कर दिया है और प्रधानमंत्री भी प्रचार पर निकल पड़े हैं। प्रधानमंत्री को बताना चाहिये कि चुनाव कब हो रहे हैं, क्योंकि उन्हें तो इस बारे में पता ही होगा। चुनाव की तारीखें घोषित होने के बाद मैं भाजपा को जवाब दूंगा।‘‘ अगले लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा के गठबंधन की सम्भावनाओं के बारे में अखिलेश ने कहा कि सपा और बसपा की इस दोस्ती के बाद प्रधानमंत्री के हाव-भाव बदल गये हैं। मैं उनका भाषण नहीं सुनता, बल्कि यह देखता हूं कि बोलते वक्त वह किस तरह अपने हाथ घुमाते हैं। इस बीच, सपा के सूत्रों के मुताबिक आगामी 26 जुलाई को पार्टी कार्यकर्ता बलिया से ‘लोकतंत्र बचाओ समग्र क्रांति साइकिल यात्रा‘ निकालेंगे, जो उसी रास्ते से गुजरेगी जिस पर पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का निर्माण प्रस्तावित है। यह यात्रा गाजीपुर, मऊ, आजमगढ़, अम्बेडकर नगर, फैजाबाद और बाराबंकी होते हुए पांच अगस्त को लखनऊ के जनेश्वर मिश्र पार्क में सम्पन्न होगी।

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े