नीरव मोदी के द्वारा देश को लगाए गए 11500 करोड़ रुपए के चूने की चर्चा सोशल मीडिया पर खूब हो रही है। फेसबुक, वाट्सएप व ट्विटर पर लोग जमकर नीरव मोदी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कस रहे हैं। कई तरह के फोटो, पोस्टर, ऑडियो व वीडियो वायरल हो रहे हैं। नीरव मोदी के भागने का ठीकरा एक-दूसरे पर फोड़ा जा रहा है। जेल में बंद बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को जननायक तक करार दिया रहा है, जो विदेश नहीं भागे।

टिप्पणियां 
नीरव मोदी 1971 में पैदा हुआ था। उस वक्त इंदिरा गांधी की सरकार थी।  इसके लिए कांग्रेस जिम्मेदार है बात खत्म....

सब इसी तरह देश से पैसा लेकर भागते रहे तो एक दिन मोदी जी का ‘कैशलैस इंडिया’ का सपना जल्दी पूरा होजाएगाठ 

आपके खाते मे मिनिमम बेलेंस से कम रूपया हो तो बैंक को तुरंत मालूम हो जाता है! और..? 

दाऊद बम विस्फोट करके भाग गया माल्या 9000 करोड़ रुपए लेकर भाग गया नीरव मोदी 11000 करोड़ लेकर भाग गया और पुलिस पकड़ेगी किसको? जो हेल्मेट नहीं पहनते?

आज भारत के लालू प्रसाद यादव जी ही, सच्चे जननायक और देशभक्त हैं क्योंकि, उन्होंने जेल जाना मंजूर किया पर विदेश नहीं भागे..

अगर ऐसे ही एक-एक करके नए-नए मोदी आते रहे तो 15 लाख लेने की बजाए देने पड़ सकते हैंठ पहले तो देशवासियों की खुशी का ठिकाना न रहा, लेकिन फिर उन्हें मालूम हुआ कि बड़ा नहीं छोटा भागा है.

 जैसे ही मोदी जी 15 लाख रुपए देने की तैयारी करते हैं, तो कोई न कोई पैसे लेकर भाग जाता हैठ नीरव मोदी के कर्मों के लिए नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार मानने वाले ज्यादातर वही लोग हैं, जो नगर निगम और सोनू निगम को भाई-भाई समझते हैं

 अब ये अफवाह कौन फैला रहा है नीरव मोदी तो पैसा वापस करना चाहता था पर नेहरू जी ने रोक दिया ताकि मोदी जी बदनाम हो सकें

एक आइडिया, जो बदल दे आपकी दुनिया, लोन लो-भाग लो: नीरव मोदी

 सारा रुपपया कांग्रेस के जमाने के पुराने हजार-पांच सौ के नोटों में ही तो ले गया होगा, तो परेशानी क्या है?

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े