जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने बुधवार को अधिकारियों से कहा कि प्रदेश में युवाओं को कट्टरपंथ में लिप्त कराने वाले तत्वों के खिलाफ मामला दर्ज किया जाये। बारामूला जिले में पुलिस अधिकारियों से रूबरू होते हुए डीजीपी ने युवाओं को कट्टरपंथ में लिप्त कराने और आतंकवाद की तरफ धकेलने वाले तत्वों से सख्ती के साथ निपटने की जरूरत पर बल दिया। उन्होंने पुलिस अधिकारियों को इस तरह की गतिविधियों में लिप्त लोगों की पहचान करने और उनके खिलाफ मामला दर्ज करने का निर्देश दिया। सिंह ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में जीत के लिए पुलिस कर्मियों की तारीफ की।  उन्होंने कहा कि देश भर में प्रदेश पुलिस के प्रयासों और उपलब्धियों को सराहना मिल रही है। उन्होंने याद किया कि गुजरात में डीजीपी सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू कश्मीर पुलिस की सराहना की थी। सिंह ने कहा कि बारामूला पुलिस ने शांति बरकरार रखने के साथ ही जिले में कोई आतंकवादी गतिविधि नहीं होने दी है। इससे लोगों को बड़ी राहत मिली हैं। पुलिस और सेना को साथ मिलकर काम करने की जरूरत है ताकि आतंकवादियों की निर्दोष लोगों के खिलाफ हिंसा समाप्त हो जाये।

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

और भी पढ़ें..

विज्ञापन

फोटो-फीचर

हिंदी ई-न्यूज़ से जुड़े